वामपंथी प्रोफेसर ने दर्शाया भारत का खंडित मानचित्र,बीएचयू के छात्रों में उबाल

आज काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग की ऑनलाइन कक्षा में एक वामपंथी शिक्षिका द्वारा भारत का गलत मानचित्र दिखाने पर बवाल हो गया ।

विवादित मानचित्र जो दर्शाया गया

दरसल कोरोना प्रोटोकॉल के कारण विश्वविद्यालय की अधिकतर कक्षाएं ऑनलाइन मूड पर ही चल रही है।इसी क्रम में आज जब भूगोल विभाग की ऑनलाइन कक्षा एक वामपंथी प्रोफेसर ले रही थी ।उसमें उन्होंने भारत के जिस मानचित्र को दर्शायाउसमें पाकिस्तान अधिकृत काश्मीर और अक्साई चीन को भारत का अंग नही थे ।एक मानचित्र में अरुणाचल भी भारत का हिस्सा नही था ।

इस मानचित्र के स्क्रीन पर दिखते ही छात्रों ने उसका विरोध किया ।उसके बाद छात्र इस घटना का विरोध करने विभागाध्यक्ष के पास गए ।छात्रों का आरोप है कि विभागाध्यक्ष के सामने ही शिक्षिका ने छात्रों को नम्बर काटने और देख लेने की धमकी भी दी।इससे छात्र और आक्रोशित हो गए।

इसी बीच इस मामले को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता मुख्य द्वार को बंद कर धरने पर बैठ गए ।उनकी मांग थी कि शिक्षिका को तत्काल निलंबित कर जांच बैठाई जाए और उनपर कठोर कारवाई हो ।

बारिश में भी धरनारत ABVP के छात्र

इस मसले को लेकर जब हमारी बात अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विभाग संयोजक अधोक्षज पाण्डेय से बात हुई तो उन्होंने कहा कि” ये भारत की एकता और अखंडता से जुड़ा विषय है ।महामना की बगिया में इसे किसी भी रूप में स्वीकार नही किया जा सकता ।शिक्षिका पर कठोर कारवाई होनी चाहिए।हम उनपर मुकदमा भी दर्ज कराएंगे ।”

ABVP के विभाग संयोजक अधोक्षज पाण्डेय

समाचार प्राप्त होने तक छात्रों का धरना जारी था ।इस मामले पर कुछ छात्रों का यह भी कहना है कि निवर्तमान कुलपति भटनागर जी के समय हुई अधिकतर नियुक्तियां एक खास विचारधारा(वामपंथी) के लोगो की हुई है ।उन लोगो ने अपना रंग दिखाना भी शुरू कर दिया है।

छात्रों ने लंका थाने की पुलिस को भी इस सम्बंध में एक तहरीर दे दी है।

पुलिस को शिकायती पत्र सौंपते छात्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *